Recents in Beach

what is mobile operating system in hindi full detail |mobile operating system developed by google across world

what is mobile operating system in hindi full detail |mobile operating system developed by google across world

what is mobile operating system in hindi full detail

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम

जब हम मोबाइल खरीदने जाते हैं तो एक वर्ड सभी ने सुना होगा मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम आखिर mobile(os) होता क्या है इसे कैसे डिवेलप किया जाता है ऐसे कैसे बनाया जाता है इससे हमारे मोबाइल में क्या फर्क पड़ता है आज मैं बताऊंगा आपको फुल डिटेल में

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम जिसे हम मोबाइल operating system कहते हैं एक प्रकार का ऑपरेटिंग सिस्टम है जो मोबाइल उपकरण जैसे स्मार्टफोन टैबलेट पीडीए, इत्यादि पर चलने हेतु डिजाइन किया गया है इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर दूसरे प्रोग्राम जिसे हम (app)एप कहते हैं वह सभी चल सकते हैं 

मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम  मुख्यतः 
                                                 # गूगल  एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम (google android os)
                                                 # apple  ios(apple ios) 
                                                 # माइक्रोसॉफ्ट  विंडोज मोबाइल 10


mobile operating system developed by google across world

# गूगल  एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम (google android os):

जब हम फोन खरीदते हैं तो हम अपने फोन के अबाउट सेक्शन में देखते हैं linux kernel लाइनेक्स कर्नल पर बना यह ऑपरेटिंग सिस्टम गूगल ने बनाया है जो कि बहुत से मोबाइल उपकरणों में चलता हुआ मिल जाता है android-1 ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है जिससे प्रोग्रामर अपनी सुविधा अनुसार बदल सकते हैं एंड्रॉयड वर्तमान में सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है एंड्राइड की उत्तम विशेषता में शामिल है इसके बहुत योगी होम स्क्रीन से ऐप को रख सकता है और फटाफट में आसानी से उपयोग कर सकता है इसमें मल्टीटास्किंग के लिए सर्वोत्तम क्षमता होती है प्रोग्राम को केवल स्वयं के द्वारा बंद करने की योग्यता होती है एप्पल प्ले स्टोर की तरह एंड्रॉयड प्ले स्टोर में भी लाखों की संख्या में एप्स होते हैं जिनमें से कई फ्री हैं
एप स्टोर के कई प्रकार होते हैं इनमें गूगल प्ले स्टोर मुख्यतः है जो ऐप मोबाइल में इंस्टॉल नहीं है से हम गूगल प्ले स्टोर से आसानी से डाउनलोड और इंस्टॉल कर सकते हैं एप एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का उपनाम है गूगल प्ले स्टोर गूगल द्वारा निर्मित अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन सॉफ्टवेयर स्टोर है जो कि एंड्रॉयड उपकरणों के लिए बनाया है गूगल ने इसे 2008 में बनाया था 




 # apple  ios(apple ios):

एप्पल का आईओएस यह एक मल्टी टच मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कि एप्पल के ipad iphone और ipod को चलाता है इसका एक संस्करण(version) एप्पल की आई- वॉच को वही चलाता है यह ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर के टच मात्र से संकेतों(signals) को समझ लेता है यूजर ऐप खोल सकते हैं इस क्रीम को जूम कर सकते हैं तो उंगलियों के साथ एक साथ स्क्रीन पर हिलाकर स्क्रीन बदल सकते हैं जैसे हम मुख्यतः टचस्क्रीन कहते हैं एप्पल आईओएस(apple ios) सिर्फ एप्पल के बनाए गए उपकरणों में ही चलता है इसमें इंटरनेट उपयोग करने के लिए सफारी ब्राउजर यह सिक्योरिटी परपज से सबसे बेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम होता है
इसके ऐप को डाउनलोड करने के लिए एप्पल एप स्टोर काम में लिया जाता है यह भी 2008 को शुरू हुआ था इसके द्वारा यूजर आसानी से अपना एप इंस्टॉल कर सकता है


# माइक्रोसॉफ्ट  विंडोज मोबाइल 10:

यह ऑपरेटिंग सिस्टम सिर्फ माइक्रोसॉफ्ट के उपकरणों पर ही चल सकता है एंड्रॉयड और आईओएस के बाद तीसरा सबसे ज्यादा उपयोग होने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम माइक्रोसॉफ्ट विंडोज मोबाइल है यूजर इसके अंदर फेसबुक और गूगल अकाउंट का इस्तेमाल कर  सकते हैं 

विंडो मोबाइल में एप्प स्टोर को विंडो स्टोर कहते हैं हे विंडोज 10 के लिए बना एप स्टोर है
यहां ऊपर बताए हुए एप्स स्टोर से कोई भी ऐप कैसे डाउनलोड किया जाता है उसे हम नीचे बता रहे हैं
सबसे पहले हमें प्ले स्टोर ओपन करना है उसमें जिस ऐप को डाउनलोड करना चाहते हैं उसका नाम उसमें सर्च करें और जिस ऐप की सबसे ज्यादा रेटिंग आ रही है उस ऐप को डाउनलोड बटन पर क्लिक करके डाउनलोड कर ले जब यह डाउनलोड हो जाएगा तब  इंस्टॉल कर ले फिर नेक्स्ट बटन पर क्लिक करें और लास्ट में फिनिश कर देना आजकल ऑटो इंस्टॉलेशन होती है डाउनलोड होते ही एप इंस्टॉल हो जाता है 
thanks for watching and  हमारी साइट को फॉलो करें। www.tipstool.in
    see older post:-                                                                                                                                          सुखी और शांतिपूर्ण जीवन का रहस्य|Sukhi Jeevan Ka Rahasya 

Post a Comment

0 Comments